सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, सभी दल EC को देंगे चंदे का ब्योरा

कुल दृश्य : 178

सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, सभी दल EC को देंगे चंदे का ब्योरा

लोकसभा चुनाव 2019 की मतदान प्रक्रिया शुरू हो गयी है। इसी बीच सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राजनीतिक दलों को चंदा देने से संबंधित चुनावी बॉन्ड पर रोक नहीं लगेगी। इस मामले पर अंतरिम आदेश जारी कर कोर्ट ने कहा कि ऐसे सभी दल, जिनको चुनावी बॉन्ड के जरिए चंदा मिला है वो सील कवर में चुनाव आयोग को ब्योरा देंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सभी राजनीतिक दल चुनावी बॉन्ड के जरिये मिली रकम की जानकारी सील कवर में चुनाव आयोग के साथ साझा करें। कोर्ट ने जानकारी साझा करने के लिए 30 मई की समय-सीमा निर्धारित की है और कहा है कि पार्टियां प्रत्येक दानदाता का ब्योरा सौंपे। चुनाव आयोग इसे सेफ कस्टडी में रखेगा। दूसरी तरफ, सुप्रीम कोर्ट मामले की विस्तृत सुनवाई की तारीख तय करेगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने कोर्ट से कहा था कि वह चुनाव प्रक्रिया के दौरान चुनावी बॉन्ड के मुद्दे पर आदेश पारित न करे।

केंद्र ने कोर्ट से आग्रह किया कि न्यायालय को इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए और चुनाव प्रक्रिया के पूरा होने के बाद इस मुद्दे पर निर्णय लेना चाहिए। अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने केंद्र के लिए बहस करते हुए कहा कि चुनावी बॉन्ड राजनीतिक दान के लिए पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए एक बड़ा कदम है।

एजी का कहना था कि चुनावी बांड से पहले, अधिकांश दान नकद के माध्यम से किए गए थे, जिससे बेहिसाब धन चुनाव में डाले गए थे। इलेक्टोरल बॉन्ड सुनिश्चित करते हैं कि भुगतान केवल चेक, ड्राफ्ट और प्रत्यक्ष डेबिट के माध्यम से किया जाता है। कोई भी काला धन चुनाव में नहीं लगाया जा सकता। वहीं चुनाव आयोग ने कहा है कि वो इस संबंध में एक पारदर्शी व्यवस्था चाहता है और चुनावी बॉन्ड पारदर्शी नहीं है।

चांद पर उतरने से पहले इज़राइल का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच नहीं होगा गठबंधन, केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में फैसला

सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, सभी दल EC को देंगे चंदे का ब्योरा

150 से अधिक पूर्व सैन्य अधिकारियों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मोदी सरकार पर राजनीतिकरण का आरोप

राहुल की सुरक्षा में चूक? चेहरे पर दिखी लेजर लाइट

आधुनिक जानकारी से परिपूर्ण रहो

साइन अप

मैं शर्तों के लिए सहमत हूं गोपनीयता नीति

G|translate Your license is inactive or expired, please subscribe again!